बुधवार, 6 फरवरी को वेलिंग्टन में खेले गए पहले ट्वेंटी20 मैच में भारत के कप्तान रोहित शर्मा के सारे दांव उलटे पड़ गए. भारत ने टौस जीतने के अलावा सबकुछ गंवा दिया.

जब मेजबान न्यूजीलैंड टीम बल्लेबाजी करने मैदान पर उतरी तो लगा कि हाल ही में हारी वनडे सीरीज का उस पर दबाव होगा पर ऐसा कुछ दिखा नहीं. हां, इस के उलट न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों की भरपूर धुनाई की.

ओपनर बल्लेबाजों में टिम सेफर्ट ने तो कहर मचा दिया. उन्होंने 6 छक्कों और 7 चौकों की मदद से 43 गेंदों पर 84 रनों की बेमिसाल पारी खेली और ट्वेंटी20 इंटरनेशनल कैरियर की पहली फिफ्टी जड़ी. बाकी के ज्यादातर बल्लेबाजों ने भी कम गेंदों पर ज्यादा रन बटोर कर टीम का कुल स्कोर 219 तक पहुंचा दिया.
दूसरे ओपनर बल्लेबाज कोलिन मुनरो ने 34 रन बनाए तो कप्तान के. विलियमसन ने भी इतने ही रन बनाए थे. बाद में रौस टेलर और एस. कग्गेलेइजन ने भी तेजी से अहम रन बटोरे.

20 ओवरों में 220 रन बनाने की चुनौती भारत तभी हार गया था जब भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने 5 गेंदों पर 1 ही रन बनाया और आउट हो कर डग आउट में लौट गए.
उस के बाद शिखर धवन और वी. शंकर ने थोड़ा पारी को संभाला और 18-18 गेंदों पर 29 और 27 रन बटोरे पर उस के बाद के खिलाड़ी बल्लेबाज नकारा साबित हुए.

महेंद्र सिंह धौनी ने 31 गेंदों पर जरूर 39 रन बनाए पर वे 220 के टारगेट तक टीम को पहुंचाने में नाकाम ही रहे. नतीजतन, भारत की टीम 19.2 ओवरों में सिर्फ 139 रन ही बना सकी और 80 रनों से हार गई.
इस मैच में मिली हार से भारतीय टीम के साथ एक ऐसा रिकौर्ड जुड़ गया जो किसी को भी भारतीय दर्शक को पसंद नहीं आएगा क्योंकि यह ट्वेंटी20 इंटरनेशनल मैच में भारत की सब से बड़ी हार है.

3 मैचों की इस सीरीज में फिलहाल भारत 0-1 से पिछड़ गया है और रोहित शर्मा और उन की टीम ने जो यह हार का रायता फैलाया है उसे अगले मैच में जीत के साथ समेटना होगा नहीं तो यह सीरीज गई हाथ से.

Tags:
COMMENT