देश दुनिया में कहानियों को ऑडियो वर्जन में सुनने की एक परंपरा काफी समय से रही है, लेकिन भारत में अभी इसकी शुरुआत है. कहानियां तो यहां खूब पढ़ी जाती हैं, लेकिन जब ऑडियो फॉर्मेट में इन्हें बाजार में उतार जाता है तो लोगों को शायद पता नहीं चल पाता, इसलिये दिलचस्पी कम दिखती है.

इसी क्षेत्र में कई सालों से काम कर रही कम्पनी स्टोरीटेल अब भारत में इन कहानियों के ऑडियो वर्जन के ट्रेंड को बढ़ाने उतरी है. यूरोप में ऑडियो बुक्स का प्रमुख प्लेटफॉर्म स्टोरीटेल भारत में अपनी सेवाएं शुरू कर रहा है. स्टोरीटेल की स्ट्रीमिंग सर्विस, जिसे कुछ-कुछ ऑडियो बुक्स का नेटफ्लिक्स संस्करण कहा जा सकता है, के यूजर्स अपने मोबाइल फोन पर एप डाउनलोड करके अनलिमिटेड ऑडियो बुक्स सुन सकते हैं. भारतीय भाषाओं पर फोकस करने वाली यह पहली ऑडियो बुक्स सब्सक्रिप्शन सर्विस है.

भारत में स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वालों की बढ़ती हुई संख्या, दूरदराज तक तेज रफ्तार मोबाईल ब्रॉडबैंड की पहुंच और सब्सक्रिप्शन आधारित सर्विसेज के लोकप्रिय उभार ने मिलकर वह माहौल तैयार किया है जिसमें लोगों में और अधिक कहानियों तक पहुंचने की ललक बढ़ी है. स्टोरीटेल का लक्ष्य है भारत में ऑडियो बुक्स इंडस्ट्री में हिस्सेदारी करते हुए उसकी ग्रोथ को संचालित करना. 8 देशों में 5 लाखसब्सक्राइबर्स स्टोरीटेल ऑडियो बुक्स सुनते हैं. भारत नौवां देश है जहां कम्पनी की सर्विसेज लांच हो रही हैं.

भारत में स्टोरीटेल अंग्रेजी, हिंदी और मराठी में शुरुआत कर रहा है. लांच के समय 500 से अधिक किताबें प्लेटफार्म पर होंगी, जिनमें मराठी की 230, हिंदी की 115 और अंग्रेजी की 60 ऑडियो बुक्स शामिल हैं. इसके अलावा कुछ चुनिंदा ई-बुक्स भी प्लेटफार्म पर होंगी. लांच के समय ही मराठी में “मृत्यंजय” और हिंदी में “राग दरबारी” जैसे क्लासिक कैटेलॉग में शामिल हैं.

स्टोरीटेल ‘स्टोरीटेल ओरिजनल’ भी लांच कर रहा है. स्टोरीटेल ओरिजनल खास तौर पर ऑडियो के लिए लिखी गयी 10 एपिसोड की सीरीज होती है. लांच के समय सब्सक्राइबर्स को हिंदी मराठी की 11 ओरिजनल सीरीज डाउनलोड के लिए उपलब्ध होंगी.

स्टोरीटेल के सीईओ योनास टेलेंडर ने बताया कि भारतीय बाजार और ग्राहक को बेहतर समझने के लिए हम सीमित शुरुआत कर रहे हैं. 2018 के आरम्भिक महीनों में हम अपना दायरा फैलाएंगें, बड़े मार्केटिंग कैम्पेन करते हुए. 2018 की पहली तिमाही में ही हम ब्रिटेन और अमेरिका के प्रकाशकों की अंग्रेजी किताबें भी भारतीय सब्सक्राइबर्स को उपलब्ध कराएंगे.

गौरतलब है कि स्टोरीटेल ने 2005 में सर्विस शुरू की और अब तक 2 करोड़ 70 लाख लोग इसके प्लेटफार्म पर ऑडियो बुक्स सुन चुके हैं. स्टोरीटेल एप हर तरह के स्मार्टफोन के साथ काम करती है और इसमें बिना इंटरनेट कनेक्शन के ऑफलाइन सुनने की सुविधा भी है.

2010 से स्टोरीटेल के सब्सक्राइबर बेस में 100% वार्षिक वृद्धि हुई है. अगस्त 2017 में इसका सब्सक्राइबर बेस 5 लाख को पार कर गया. स्टोरीटेल का हेडक्वार्टर स्टॉकहोम में है और अब इसका फैलाव 13 देशों में है. स्वीडन, नॉर्वे, डेनमार्क, फिनलैंड, रूस, स्पेन, पोलैंड, और अब भारत में सर्विस उपलब्ध है जबकि आइसलैंड, बुल्गारिया, तुर्की और संयुक्त अरब अमीरात में जल्द ही शुरू होने वाली है.

COMMENT