आप का मकान रहने लायक नहीं रह गया है, तो जांचपरख करने के बाद आप के पास 2 रास्ते होते हैं, पहला कि आप मकान ढहा दें और इसे फिर से बनवाएं या फिर आप इसी मकान की मरम्मत करवा लें. प्रत्यक्षतौर पर मकान ढहा कर फिर से बनवाना, मरम्मत करवाने से ज्यादा मुश्किल काम है. कुछ ऐसा ही होता है पतिपत्नी के रिश्ते में भी, जब लगता है कि रिश्ता बेहद खराब हो चुका है और आगे निभाना मुश्किल हो रहा है. ऐसे में तलाक का खयाल बड़ी तेजी से जेहन में उभरता है. परिजन, पड़ोसी, दोस्त सभी यही सलाह देने लगते हैं कि नहीं निभ रही, तो तलाक ले लो. लगता है कि बस यही एक चारा है शांति पाने का कि रिश्ते को ही खत्म कर दिया जाए. प्यार का खूबसूरत मकां, जो इतने जतन से बनाया था, उसे ढहा दिया जाए. मगर सच पूछिए तो यह आसान नहीं है.

Tags:
COMMENT