जम्मूकश्मीर में मुसीबतों का आलम थमने का नाम ही नहीं ले रहा. पहले ही आतंकवाद का जख्म नासूर बन कर इसे हलकान किए था, उस के बाद बाढ़ की तबाही ने इस को बुरी तरह तोड़ कर रख दिया है. सरकार और सेना बाढ़ त्रासदी की चपेट में आए लोगों को बचाने की मुहिम में रातदिन एक किए हुए हैं. सैकड़ों जानें जा चुकी हैं और हजारों जिंदगियां मदद की आस में जिंदगी और मौत के बीच झूल रही हैं. कश्मीर के 4 जिले--अनंतनाग, कुलगाम, शोपियां, पुलवामा में फैले दक्षिण कश्मीर के अधिकांश हिस्से सितंबर के शुरुआती दिनों में बाढ़ की चपेट में आए थे, वहीं श्रीनगर का 60 फीसदी हिस्सा 7 सितंबर को झेलम के रौद्र रूप का शिकार बना.

बीते 109 सालों की सब से भयावह प्राकृतिक मार झेल रहे कश्मीर में भले ही पानी घटने लगा हो लेकिन भूख की मार और महामारी के खतरे मंडराने लगे हैं. mआजादी के बाद आई सब से बड़ी त्रासदी से जूझ रहे कश्मीरियों का आम जीवन कब सामान्य व अमन के ट्रैक पर वापस आ पाएगा, यह सवाल उन की पथराई आंखों पर रहरह कर उभरता देखा जा सकता है. 

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...