पतंगबाजी दुनियाभर में मशहूर है. कई देशों में अलगअलग तरह के पतंगबाजी महोत्सव मनाए जाते हैं, जो वहां के पर्यटन को बढ़ावा देते हैं. एकदूसरे की पतंग काट कर जीत का जो मजा मिलता है वह पतंगबाजों के लिए अद्भुत होता है. पतंग काटने में हवा का रुख और पतंग की कलाबाजी के साथसाथ पतंग उड़ाने में इस्तेमाल होने वाली डोर यानी मांझा का भी खास महत्त्व होता है. पतंग में आगे की ओर अलगअलग तरह के मांझे और लोहे के तार तक का प्रयोग होता है. पतंग के साथ लगे मांझे के बाद एक अलग किस्म की डोर लगाई जाती है. पतंग के साथ लगा मांझा ही दूसरी पतंग के मांझे को रगड़ता है और उसे काट देता है. मांझा दूसरी पतंग की डोर को काट सके, इस के लिए मांझे में कांच और लोहे का बुरादा लगाया जाता है. देश में कौटन के धागे से तैयार पतंग की डोर बनाई जाती है.

COMMENT