कोरोना वायरस एवं लॉकडाउन में आर्थिक तंगी से गुजर रहे परिवारों को राहत देते हुए सरकारों ने इस साल निजी स्कूलों की फीस वृद्धि पर रोक लगा दी है. लेकिन अभिभावकों की परेशानी कम नहीं हुई हैं. लॉकडाउन के कारण स्कूल बंद हैं, इसके बाद भी निजी स्कूलों में किताबों के जरिये लूटने का धंधा शुरू हो गया हैं.

स्कूल संचालक अभिभावकों के मोबाइल पर मैसेज भेज कर उन पर किताब खरीदने का दबाव बना रहे हैं. किताब खरीदना तो ठीक है. लेकिन अभिभावकों की समस्या यह है कि हर निजी स्कूल संचालक ने अपनी स्टेशनरी दुकान फिक्स कर रखी है. उस विद्यालय की किताबें सिर्फ उस दुकान पर ही मिलती हैं. लेकिन शिक्षा विभाग की लापरवाही के चलते फिक्स दुकान से अभिभावक महंगी किताब खरीद कर लुटने को मजबूर हैं.

ये भी पढ़ें-#coronavirus: मास्क एक फायदे अनेक

50 फीसदी कमीशन का खेल

हर बड़े प्राइवेट स्कूल अलग-अलग लेखकों की पुस्तकें सिर्फ इसलिए चलाते हैं कि उन्हें विक्रेता से मोटा कमीशन मिलता रहे. अभिभावकों का कहना है कि इस साल भी पुस्तकों के दाम 20 फीसदी तक बढ़ा दिए गए हैं. उनकी मजबूरी यह है कि दूसरी दुकानों में बुक न मिलने के कारण वह फिक्स दुकान से महंगी किताबें खरीदने को मजबूर हैं.

अक्टूबर में शुरू हो जाता है खेल

जयपुर शहर के नामी निजी विद्यालय से जुड़े सूत्रों ने बताया, " स्कूल फीस से अधिक कमीशन किताब विक्रेता व प्रकाशक से कमाते हैं. कमीशन फिक्सिंग का खेल सितंबर-अक्टूबर में शुरू हो जाता है. प्रकाशक स्कूल में आकर छात्र संख्या के हिसाब से सिलेबस तय करते हैं और उनकी छपाई का कार्य शुरू कर देते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT