सऊदी अरब की 18 वर्षीय राहफ मोहम्मद अल कुनन नामक युवती ने अपने कट्टर धार्मिक परिवार की बंदिशों के चलते न केवल घरपरिवार छोड़ दिया, देश भी छोड़ कर चली गई. जब वह थाईलैंड, बैंकाक हवाई अड्डे पर पहुंची तो उसे रोक लिया गया.

रहाफ का कहना है कि वह धर्म की बंदिशों से तंग थी. वह नास्तिक है और उस का परिवार कट्टर धार्मिक है. उस का परिवार कितना कट्टर है, इस का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि महज बाल छोटे रखने पर उसे 6 महीने तक कमरे में बंद कर दिया गया था.

रहाफ का कहना है कि उस ने इस्लाम छोड़ दिया है और अगर उसे वापस कुवैत भेजा गया तो उसे निश्चित तौर पर जेल में डाल दिया जाएगा और जेल से निकलते ही उस का परिवार उस की हत्या कर देगा.

रहाफ सऊदी के एक अमीर परिवार की बेटी है. वह पहले कुवैत आई, वहां से औस्ट्रेलिया के लिए रवाना हुई थी. उसे बैंकाक के लिए फ्लाइट पकड़नी थी पर यहां उसे सऊदी और कुवैती अधिकारियों ने रोक लिया और उस के कागजात जब्त कर लिए गए. थाई अधिकारियों का कहना है कि रहाफ शादी से बचने के लिए कुवैत से भागी थी.

असल में रहाफ के परिवार वालों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि वह बिना किसी पुरुष अभिभावक के सफर कर रही है. बैंकाक के अधिकारियों का कहना था कि रहाफ के पास वापसी का टिकट नहीं था इसलिए उसे रोका गया. उसे हवाई अड्डे के पास एक होटल में रखा गया.

Tags:
COMMENT