जब तक आज का युवा पूरा वयस्क होगा, भारत कट्टरपंथी, धार्मिक, सऊदी अरब, पाकिस्तान जैसा देश बन चुका हो, तो बड़ी बात नहीं है. आज भी कमजोर वर्गों के कम पढ़ेलिखे युवाओं के लिए धर्म का धंधा सब से बड़ा काम है जहां खुद की सोचने की आजादी का कोई काम नहीं होता.वाशिंगटन में हैडक्वार्टर वाली संस्था फ्रीडम हाउस ने इस साल भारत का स्टेटस ‘फ्री’ से घटा कर ‘पार्टली फ्री’ कर दिया है. एक तरह से अभी भी उदारपना दिखाया गया है क्योंकि जो माहौल है उस में पार्टली फ्री भी केवल सरकार समर्थक हैं जिन्हें आजादी है कि वे सरकार के आलोचकों को देशद्रोही, अपराधी, खालिस्तानी, पाकिस्तानी, चीनी या कुछ और भी कहने की स्वतंत्रता रखते हैं.

यह संस्था पूर्ण स्वतंत्रता वाले देश को 100 अंक देती है. भारत के अंक 71 से गिर कर इस वर्ष 67 पर आ गए और उस का 211 देशों में से रैंक 83 से घट कर 88 पहुंच गया. यह आज के युवाओं के लिए चौंकाने वाली बात नहीं रह गई है क्योंकि जो 20 और 30 वर्षों की उम्र के बीच हैं, उन्हें तो फ्री का अर्थ ही न के बराबर मालूम है. वे तो सोचते हैं कि जो आज है वही समस्या है जिस में भगवे लठैत की चलती है. वैसे, फ्रीडम तो मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को भी नहीं है जिन्हें जरा सी सरकार की असहमति जताने पर दूध में पड़ी मक्खी की तरह निकाल दिया जाता है. जहां धर्म का राज होता है वहां फ्रीडम का क्या काम है क्योंकि जो गुरु ने कह दिया, वही सत्य है और गलीमहल्ले के गुरु वही कह सकते हैं जो महागुरू की सोच है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...