कामिनी सिंगल मदर है. छह साल का सुमित उसके जीवन की इकलौती ख़ुशी है. करीब पांच साल पहले एक रोड एक्सीडेंट में कामिनी के पति चल बसे. तब सुमित सिर्फ एक साल का हुआ था. यह तो अच्छा था कि दिल्ली जैसे शहर में उसके पति का खुद का फ्लैट था, वरना दुधमुए बच्चे के साथ विधवा औरत का किसी किराये के मकान में जिंदगी बसर करना तमाम खतरों से भरा हुआ है. कामिनी को अपना यह फ्लैट बहुत प्यारा है. उसके पति की निशानी है. बिल्डिंग के चौथे और अंतिम फ्लोर पर रहने वाली कामिनी को बिल्डिंग की छत को इस्तेमाल करने का अधिकार मिला हुआ है. कामिनी के बहुत सारे काम छत पर होते हैं. छत के एक हिस्से को उसने किचेन गार्डन का रूप दिया हुआ है, जिसमे खूब हरियाली रहती है. उसके करीब ही उसने एक छोटी टेबल, दो चेयर्स, रंगीन मोढ़े और एक टेबल फैन लगा कर नन्हा सा ऑफिस बना लिया है, जहाँ हरियाली के बीच बैठ कर वह अपने लैपटॉप पर ऑफिस का काम भी कर लेती है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT