1952 में बांग्लादेश में भाषा को लेकर एक आंदोलन चला था, भाषा के लिए हुए इस आन्दोलन में हजारों लोगों ने अपनी जान दी थी. यह आंदोलन तत्कालीन पाकिस्तान सरकार द्वारा देश के पूर्वी हिस्से पर भी राष्ट्रभाषा के रूप में उर्दू को थोपे जाने के विरोध से हुई थी.

कहा जाता है कि भाषा  के लिए शुरू हुआ यह आन्दोलन  देश की आजादी का आन्दोनल बन गया, इस आन्दोलन में पडोसी देश का पूरा साथ भारत ने दिया और  नौ महीने तक चले मुक्ति संग्राम की परिणति  बांग्लादेश पाकिस्तान से अलग होकर एक नए स्वतंत्र देश के रूप में विश्व पटल पर उभरा. आगे चल कर हर वर्ष 21 फरवरी के दिन बांग्लादेश में भाषा दिवस मनाया शुरू हो गया.

Tags:
COMMENT