17 सितंबर, 2018 की सुबह करीब साढ़े 6 बजे सिपाही सुजान सिंह अपनी पिकेट ड्यूटी पूरी करने के बाद अपने कमरे पर जा रहे थे. रास्ते में उन्होंने बहोरिकपुर गांव के पास काली नदी के किनारे सड़क पर एक सैंट्रो कार खड़ी देखी. वह लावारिस कार के नजदीक पहुंचे तो चौंक गए, क्योंकि कार के आगेपीछे लाशें पड़ी हुई थीं. दोनों लाशें पुरुषों की थीं.

मामला गंभीर था. सुजान सिंह ने घर न जा कर इस की सूचना तुरंत थाना जहानगंज को दी. सूचना पा कर थानाप्रभारी संजीव सिंह राठौर पुलिस टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए. काली नदी के किनारे सड़क पर खड़ी सैंट्रो कार के आगेपीछे पड़ी दोनों लाशें कुचली हुई थीं. कार का एक पहिया खुला हुआ था. जो पहिया खुला था, उसी तरफ जैक लगा हुआ था. ऐसा लग रहा था जैसे कार का पहिया बदलते वक्त कोई दूसरा वाहन उन दोनों को रौंदता हुआ निकल गया था.

इसी बीच एसपी संतोष कुमार मिश्रा, एएसपी त्रिभुवन सिंह फील्ड यूनिट और डौग स्क्वायड ले कर वहां पहुंच गए. लाशों का बारीकी से निरीक्षण किया गया तो दोनों मृतकों के शरीर पर कई जगह चोटों के निशान मिले. उन के हाथों पर बांधे जाने और किसी चीज से गला कसने के निशान भी मिले. कार की पिछली सीट खुली हुई थी. उस खाली जगह पर खून से सना करीब 3 मीटर काला कपड़ा पड़ा मिला, इस से जाहिर था दोनों की हत्या करने के बाद उन्हें वहां ला कर डाला गया था और इसे रोड ऐक्सीडेंट का रूप देने की कोशिश की गई.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT