17 सितंबर, 2018 की सुबह करीब साढ़े 6 बजे सिपाही सुजान सिंह अपनी पिकेट ड्यूटी पूरी करने के बाद अपने कमरे पर जा रहे थे. रास्ते में उन्होंने बहोरिकपुर गांव के पास काली नदी के किनारे सड़क पर एक सैंट्रो कार खड़ी देखी. वह लावारिस कार के नजदीक पहुंचे तो चौंक गए, क्योंकि कार के आगेपीछे लाशें पड़ी हुई थीं. दोनों लाशें पुरुषों की थीं.

Tags:
COMMENT