मुंबई के निकट जिला ठाणे के उपनगर मुंब्रा में एक सिनेमाघर है आलीशान. इस सिनेमाघर से थोड़ी दूरी पर एक बिल्डिंग है नूरानी. 45 वर्षीय उमर मोहम्मद शेख इसी इमारत की चौथी मंजिल के एक फ्लैट में अपने परिवार के साथ रहते थे. फ्लैट किराए का था. उमर शेख का मुंब्रा में अच्छा कारोबार था, साथ ही मानसम्मान भी. लोग उन्हें आदर से उमर भाईजान कह कर बुलाते थे.

उमर शेख के परिवार में उन की पत्नी जुबेरा शेख, 3 बेटियां और एक बेटे को मिला कर 6 सदस्य थे, जो अब 5 रह गए थे. उन का बेटा भरी जवानी में एक जानलेवा बीमारी का शिकार हो कर दुनिया को अलविदा कह गया था.

वक्त ने ऐसा कहर ढाया कि एक सड़क दुर्घटना में उमर मोहम्मद की कमर में भी चोटें आईं और वह बिस्तर पर पहुंच गए. अस्पताल के भारीभरकम खर्चे की वजह से वह अपनी कमर का औपरेशन भी न करवा पाए थे. लाचार हो कर उन्हें घर में बैठना पड़ा. घर बैठ जाने से उन के घर की आर्थिक स्थिति बिगड़ गई. कारोबार बंद होने से उन की आमदनी भी बंद हो चुकी थी.

घर में जब भूखों मरने की नौबत आई तो उन की बेटी नसरीन ने घर की जिम्मेदारियां उठाने का फैसला किया. सामाजिक रस्मोरिवाज के चलते नसरीन ने अपना बुरका उतार फेंका.

20 वर्षीय सुंदर स्वस्थ और महत्त्वाकांक्षी नसरीन उमर मोहम्मद की दूसरे नंबर की बेटी थी. नसरीन ने मुंब्रा के एक कालेज से 12वीं पास की थी. घरपरिवार की माली हालत देख नसरीन नौकरी की तलाश में लग गई. जल्दी ही उस की यह तलाश पूरी हो गई. उसे मुंबई के अंधेरी वेस्ट के ‘चाय पर चर्चा’ नाम के एक कौफी हाउस में नौकरी मिल गई.

अपनी मेहनत और विनम्र स्वभाव से नसरीन ने एक साल के अंदर कौफी हाउस के मैनेजमेंट का दिल जीत लिया. इस से प्रभावित हो कर कौफी हाउस के मैनेजमेंट ने उस का वेतन बढ़ा दिया. साथ ही उसे प्रमोशन दे कर उसे कोलाबा फोर्ट स्थित अपनी पौश इलाके की ब्रांच में नियुक्त कर दिया.

नसरीन को ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस की मैनेजर बन कर आए हुए अभी 6 महीने भी नहीं हुए थे कि नसरीन की विनम्रता और मेहनत से कौफी हाउस की आय काफी बढ़ गई थी. उस कौफी हाउस से कोई भी कस्टमर नाराज हो कर नहीं जाता था.

कौफी हाउस की क्वालिटी में सुधार तो आया ही, लोग उस की प्रशंसा भी करने लगे. ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस की नौकरी से घर की स्थिति सुधर गई तो नसरीन ने अपने पिता की कमर का औपरेशन करवाया. अब नसरीन का इरादा अपनी बड़ी बहन का निकाह करवाने का था, लेकिन वह ऐसा कर पाती, इस से पहले ही ऐसा कुछ हो गया कि उमर मोहम्मद का परिवार अधर में लटक कर रह गया.

31 जुलाई, 2018 की रात नसरीन के परिवार वालों पर बहुत भारी पड़ी. उस दिन सुबह के साढ़े 7 बजे नसरीन ने जल्दीजल्दी लंच का डिब्बा तैयार कर के बैग उठाया और मां से यह कह कर घर से बाहर निकल गई कि 8 बजे की लोकल ट्रेन छूट जाएगी. उस ने चाय तक नहीं पी थी.

ये भी पढ़ें: सावन में शिव भक्ति की आड़ में अंधविश्वास

नसरीन हुई लापता

दिन में उस ने 2-3 बार घर पर फोन भी किया, सब ठीक था. लेकिन घर वालों के दिलों की धड़कनें तब बढ़ने लगीं, जब रात 10 बजे तक न तो नसरीन घर लौटी और न उस ने फोन किया. नसरीन कभी घर आने में लेट होती थी तो फोन कर के इस की जानकारी अपने घर वालों को दे देती थी. घर वालों ने उस के मोबाइल पर फोन लगाया तो वह भी बंद मिला.

जब 11 बजे तक नसरीन की कोई जानकारी नहीं मिली तो उमर शेख को नसरीन की चिंता होने लगी. उन्होंने कैफे में फोन कर के पूछा तो पता चला कि नसरीन अपने समय पर निकल गई थी.

उमर मोहम्मद ने अपने सगेसंबंधियों के साथसाथ जानपहचान वालों को भी फोन कर के नसरीन के बारे में पूछा, लेकिन कहीं से कोई जानकारी नहीं मिली.

जैसेजैसे रात गहराती जा रही थी, उमर शेख के परिवार की चिंता बढ़ती जा रही थी. उन्होंने नसरीन के प्रेमी सलमान खान को भी फोन किया, लेकिन उस का फोन भी बंद था.

बारबार कोशिश करने के बाद आखिर सलमान खान का फोन मिल गया. उस ने बताया कि नसरीन उसे 7 बजे चर्चगेट के ओवल पार्क में मिली थी. वहां दोनों कुछ देर तक बैठे रहे और 8 बजे ओवल पार्क से बाहर आए थे.

वहां से नसरीन यह कहते हुए निकल गई थी कि वह वीटी रेलवे स्टेशन के पास वाले स्टालों से घर के लिए कुछ शौपिंग कर के घर जाएगी. इस के बाद का उसे कुछ पता नहीं है, क्योंकि वह घर लौट आया था. साथ ही उस ने यह भी पूछा कि परेशान क्यों हैं?

‘‘बेटा, नसरीन अभी तक घर नहीं पहुंची है.’’ उमर शेख ने भरे गले से बताया.

‘‘घबराओ नहीं चाचा, मैं आ रहा हूं.’’ कह कर सलमान ने फोन काट दिया.

रात के करीब 3 बजे सलमान जब नसरीन के घर पहुंचा तो घर में सभी दुखी बैठे थे. नसरीन की मां जुबेरा की हालत सब से ज्यादा खराब थी.

‘‘इतना लेट क्यों आए बेटा?’’ उमर शेख के पूछने पर सलमान ने अपनी बाइक खराब होने की बात बताई.

सलमान खान आधे घंटे तक उन के घर बैठा रहा. वह घर वालों को सांत्वना दे रहा था. इस के बाद वह उमर शेख और उन के साले को साथ ले कर नसरीन की तलाश में निकल पड़ा.

शुरू हुई नसरीन की तलाश

नसरीन की तलाश में निकले सलमान और उमर शेख पहले मुंब्रा पुलिस थाने गए. वहां उन्होंने ड्यूटी अफसर को नसरीन के बारे में सारी बातें बता कर शिकायत दर्ज करवाई. नसरीन की गुमशुदगी दर्ज करने के बाद ड्यूटी अफसर ने उन्हें वीटी रेलवे पुलिस और आजाद मैदान पुलिस थाने जाने का सुझाव दिया. वजह यह कि नसरीन जिस एरिया में काम करती थी, वह आजाद मैदान पुलिस थानाक्षेत्र में आता था.

मुंब्रा पुलिस के सुझाव पर सलमान खान ने नसरीन के पिता उमर शेख और उन के साले के साथ मुंब्रा से सुबह 4 बजे वीटी स्टेशन जाने वाली लोकल ट्रेन पकड़ी. रेलवे पुलिस थाने में पता करने के बाद वे लोग आजाद मैदान पुलिस थाने के लिए निकले. लेकिन वहां न जा कर तीनों आजाद मैदान पुलिस थाने के बजाय पास ही दैनिक नवभारत टाइम्स के सामने स्थित आजाद मैदान चौकी पहुंच गए.

चौकी में तैनात सिपाहियों ने उन्हें कोलाबा पुलिस थाने जाने को कहा. कोलाबा पुलिस थाने के पुलिस अफसरों ने उन्हें वापस आजाद मैदान भेज दिया. इस भागदौड़ में उमर शेख काफी थक गए थे. लेकिन बेटी का मामला था, इसलिए वह दौड़ते रहे.

ये भी पढ़ें- प्यार की राह में

‘‘बेटा सलमान, यहां से ओवल पार्क कितनी दूर है? हम चाहते हैं कि वह जगह भी देख लें, जहां तुम दोनों मिले थे.’’

उमर शेख के सवाल से सलमान के चेहरे का रंग उड़ गया. फिर भी उस ने खुद को संभाल कर कहा, ‘‘बस यहीं पास में ही है. वहां जाने के लिए हम टैक्सी कर लेते हैं.’’

‘‘नहीं, उस की कोई जरूरत नहीं है. जब पास में है तो पैदल ही चलते हैं.’’ कह कर उमर शेख ओवल पार्क की तरफ चल दिए.

बेटी की लाश मिलेगी, उमर शेख ने सोचा न था

तब तक सुबह के साढ़े 7 बज चुके थे. इस के पहले कि ये लोग ओवल पार्क पहुंचते, आजाद मैदान पुलिस थाने की पैट्रोलिंग टीम वहां पहुंची हुई थी. पुलिस एक युवती की लाश को घेरे खड़ी थी. वहां काफी लोग एकत्र थे. तभी एक व्यक्ति ने भीड़ से बाहर आ कर बताया कि एक युवती की लाश पड़ी है. उस की बात सुन कर उमर शेख के होश उड़ गए.

भीड़ को चीरते हुए जब वह शव के पास पहुंचे तो उन के मुंह से दर्दभरी चीख निकल गई. वह छाती पीटपीट कर रोने लगे. उन्हें रोतेबिलखते देख पुलिस टीम ने पहले उन्हें संभाला फिर पूछताछ की. उन्होंने बता दिया कि मृतका उन की बेटी नसरीन है. उस की पहचान उन्होंने कफन से बाहर निकली जूती से ही कर ली थी.

नसरीन की लाश वहां पड़ी होने की जानकारी सुबह ओवल पार्क में घूमने निकले लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम को दी थी. पुलिस कंट्रोल रूम ने यह जानकारी मुंबई के सभी पुलिस थानों के साथसाथ उच्चाधिकारियों को भी दे दी थी.

घटनास्थल ओवल पार्क था और यह जगह थाना आजाद मैदान के क्षेत्र में आती थी. थाना आजाद मैदान के ड्यूटी अफसर इंसपेक्टर प्रदीप झालाटे ने लाश मिलने की जानकारी थानाप्रभारी वसंत वाखारे के साथसाथ पुलिस पैट्रोलिंग टीम को भी दे दी थी.

जानकारी मिलते ही पैट्रोलिंग टीम घटनास्थल पर पहुंच गई. बाद में थाना आजाद मैदान के सीनियर इंसपेक्टर वसंत वाखारे अपने सहायक इंसपेक्टर बलवंत पाटील, सहायक इंसपेक्टर रविंद्र मोहिते और सबइंसपेक्टर प्रदीप झालाटे के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए.

उन्होंने नसरीन की लाश का निरीक्षण कर के उसे वीटी स्थित जीटी अस्पताल भेज दिया. अस्पताल के डाक्टरों ने लाश देखने के बाद नसरीन को मृत घोषित कर दिया.

थानाप्रभारी वसंत वाखारे ने नसरीन की लाश को पोस्टमार्टम के लिए जे.जे. अस्पताल भेज दिया और मृतका के पिता उमर शेख, उन के साले और सलमान खान को थाने ले आए. पिता की ओर से शिकायत दर्ज करने के बाद थानाप्रभारी ने जांच शुरू कर दी.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार, मृतका नसरीन के शरीर पर चाकू के 17 घाव थे. मतलब उसे बड़ी बेरहमी से मारा गया था. उस की मौत ज्यादा खून बहने से हुई थी.

पुलिस की प्रारंभिक जांच में नसरीन की हत्या के पीछे प्यार और धोखे की कहानी लग रही थी. हकीकत तक पहुंचने के लिए पहले नसरीन के व्यक्तिगत जीवन की हकीकत पता करनी जरूरी थी.

पुलिस की तफ्तीशी टीम ने सब से पहले नसरीन की कुंडली खंगालनी शुरू की. पुलिस टीम ने नसरीन की फ्रैंड्स और ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस के कर्मचारियों से गहराई से पूछताछ की. नसरीन के घर और ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस से शुरू की गई तफ्तीश ने पुलिस को जल्द ही सफलता दिला दी. पुलिस के राडार पर नसरीन का प्रेमी सलमान खान आ गया. सलमान खान वैसे भी पुलिस की नजर में संदिग्ध था.

जल्दी ही यह बात साफ हो गई कि नसरीन का हत्यारा सलमान खान ही है. सच्चाई जान कर नसरीन के घर वाले हैरत में रह गए. जिसे अपना समझा था, वही बेटी का हत्यारा निकला. वे लोग तो उस के साथ नसरीन का निकाह करने के लिए तैयार थे. पुलिस जांच और सलमान खान के बयान से नसरीन हत्याकांड की जो कहानी सामने आई, वह कुछ इस तरह थी-

गांव से मुंबई पहुंचे सलमान को मिली प्रेमिका

28 वर्षीय सलमान खान उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के एक गांव का रहने वाला था. उस के पिता का नाम मुश्ताक खान था, जो गांव के साधारण किसान थे. सलमान खान का निकाह हो चुका था. उस की पत्नी 2 बच्चों की मां बन चुकी थी. घर की आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से वह नौकरी की तलाश में मुंबई आ गया था.

मुंबई के भायखला क्षेत्र में उस के कई परिचित रहते थे. उन की मदद से उसे कोलाबा कोर्ट स्थित सन्नी फ्रूट ट्रांसपोर्ट में फ्रूट डिलीवरी की नौकरी मिल गई. फ्रूट ट्रांसपोर्ट का औफिस और ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस आसपास थे. नौकरी मिलने के बाद सलमान ने भायखला इलाके में किराए का एक कमरा ले लिया और अपनी बीवी और बच्चों को मुंबई ले आया.

औफिस में सलमान को कई काम करने होते थे. कभीकभी उसे अपने यहां के अफसरों के लिए कौफी का और्डर देने के लिए ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस जाना पड़ता था.

जब तक नसरीन फोर्ट स्थित कौफी हाउस में नहीं आई थी, तब तक सलमान का जीवन सामान्य रूप से चल रहा था, लेकिन नसरीन के वहां आने के बाद सलमान के दिल की धड़कनें बढ़ गईं. मनचले सलमान का दिल नसरीन पर आ गया. वह पहली ही नजर में नसरीन का दीवाना हो गया. अब औफिस की सारी चाय और कौफी का और्डर देने वही जाने लगा. जब वह ‘चाय पर चर्चा’ कौफी हाउस में जाता, तो उस की निगाहें नसरीन पर ही टिकी रहती थीं. पहले तो नसरीन ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया. लेकिन धीरेधीरे नसरीन को उस की निगाहों की भाषा समझ में आने लगी. नतीजतन जल्दी ही दोनों में दोस्ती हो गई. दोनों एकदूसरे के बारे में सब कुछ जानसमझ कर घुलमिल गए.

सलमान खान का अपना छोटा सा परिवार था, जबकि नसरीन कुंवारी थी और उस के ऊपर अपने परिवार की पूरी जिम्मेदारी थी. सलमान शादीशुदा और 2 बच्चों का बाप है, यह जानते हुए भी नसरीन ने अपने संबंधों पर कोई विरोध या आपत्ति नहीं की. इस की जगह उस ने सलमान से निकाह करने के लिए भी हां कर दी थी.

उस की बस यह शर्त थी कि पहले वह अपने पिता उमर शेख की कमर का औपरेशन कराएगी. अब समस्या यह थी कि नसरीन के परिवार वाले क्या एक शादीशुदा से उस का निकाह करने को तैयार होंगे. लेकिन यह समस्या भी हल हो गई.

ये भी पढ़ें- एनजीओ : ठगी से खुद को बचाएं

नसरीन ने अपने जानपहचान वालों से आर्थिक मदद ले कर अपने पिता को औपरेशन के लिए एक प्राइवेट अस्पताल में दाखिल करवा दिया. इस औपरेशन में सलमान ने नसरीन का दोस्त बन कर उमर शेख की काफी मदद की. इस से प्रभावित हो कर नसरीन के परिवार ने उस के और नसरीन के रिश्ते को मंजूरी दे दी थी.

नसरीन और सलमान दोनों ही राजी थे, ऐसे में किसी को क्या आपत्ति होती. परिवार की तरफ से सिगनल मिलने के बाद नसरीन और सलमान दोनों ड्यूटी के बाद खुल कर मिलने लगे. दोनों साथसाथ घूमते और मौजमस्ती करते.

लेकिन उस मासूम कली को निचोड़ लेने के बाद सलमान का असली चेहरा सामने आ गया. धीरेधीरे उसे नसरीन बोझ लगने लगी. यह जानते हुए भी कि नसरीन के कंधों पर उस की बहन के निकाह की जिम्मेदारी है, वह नसरीन पर निकाह का दबाव बनाने लगा. दरअसल, उस की सोच यह थी कि नसरीन उस की पत्नी बन गई तो उस का वेतन भी उस के घर आने लगेगा. समस्या यह थी कि नसरीन निकाह के लिए तैयार नहीं थी.

इसी को ले कर सलमान खान नसरीन पर संदेह करने लगा. इस बात पर दोनों में लड़ाईझगड़ा भी होता. वह चाहता था कि या तो नसरीन उसे छोड़ दे, फिर शादी करे. लेकिन यह नसरीन के लिए संभव नहीं था, वह सलमान को बहुत प्यार करती थी. दूसरी ओर जब सलमान को यकीन हो गया कि नसरीन उस की जिंदगी से जाने वाली नहीं है, तो उस ने नसरीन को अपनी जिंदगी से बाहर निकालने का एक क्रूर फैसला ले लिया.

प्रेमी बना हत्यारा

घटना के दिन सलमान ने नसरीन को चर्चगेट के ओवल पार्क में बुलाया. नसरीन अपनी ड्यूटी खत्म कर के जब ओवल पार्क पहुंची तो सलमान उस के लेट पहुंचने को ले कर खरीखोटी सुनाने लगा. इस पर नसरीन का चेहरा भी लाल हो गया.

उस ने कहा, ‘‘सलमान, आखिर तुम्हें मुझ से प्रौब्लम क्या है? आजकल तुम मुझ से सीधे मुंह बात नहीं करते. मुझे छोटीछोटी बातों पर टौर्चर करते हो.’’

‘‘टौर्चर मैं करता हूं या तुम…आज तुम अपने किस यार से मिल कर आ रही हो?’’ सलमान ने कुटिलता से मुसकराते हुए कहा.

‘‘सलमान, खुदा से डरो. मैं तुम्हारी होने वाली पत्नी हूं. तुम मर्यादा में रहो तो अच्छा है.’’ कह कर नसरीन घर जाने के लिए उठ खड़ी हुई.

लेकिन सलमान खान ने उस का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया, जिस से वह गिर गई. सलमान ने पूरे मैदान का जायजा ले कर अपनी जेब से चाकू निकाला और नसरीन पर हमला कर दिया.

चाकू के 17 वार करने के बाद सलमान वहां से भाग खड़ा हुआ. वह नसरीन का मोबाइल फोन भी अपने साथ ले गया. नसरीन को मौत की नींद सुलाने के 3 घंटे बाद उस ने नसरीन के घर वालों से संपर्क किया. बाद में वह नसरीन के घर गया और उन के साथ नसरीन को ढूंढने में उन की मदद करने लगा.

ये भी पढ़ें- प्यार का दर्दनाक अंत

पुलिस ने सलमान से विस्तृत पूछताछ के बाद उस के खिलाफ भादंवि की धारा 302 के तहत केस दर्ज कर के उसे गिरफ्तार कर लिया. बाद में उसे अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे मुंबई की आर्थर रोड जेल भेज दिया गया.

-कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित

सौजन्य: मनोहर कहानी

Tags:
COMMENT