तमिलनाडु की कपास घाटी कहे जाने वाले कई जिलों में गरीब, दलित और आदिवासी लड़कियों से पढ़ाई के नाम पर कपड़ा मिलों में मजदूरी कराई जा रही है. इन लड़कियों का 10वीं और 12वीं कक्षाओं में नामांकन करा कर इन्हें मिलों में स्थित होस्टलों में रखा जाता है और उन से मिल में काम लिया जा रहा है.

Tags:
COMMENT