स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती उर्फ कृष्णपाल सिंह ने कंधे पर पड़े रामनामी को उतार कर झाड़ा और मुसकरा कर फिर से अपने गले में लपेट लिया, मानों साफे पर थोड़ी गंद पड़ गई थी, जो झटकते ही साफ हो गई.

होंठों पर विजयी मुसकान लिए और ऐंठ के साथ चलते चिन्मयानंद की भावभंगिमा यह बताने के लिए काफी थी कि हम भले ही आकंठ पाप के समंदर में उतर जाएं, लेकिन हमारा कोई कुछ नहीं बिगाङ सकता.

दरअसल, भारत में धर्म की ढाल, पैसे की ताकत, सत्ता में रसूख और अंधभक्तों का समर्थन घोर से घोर पापियों को भी सजा से बचा लेता है.

ये भी पढ़ें- क्या करें कि अपराधी को सख्त से सख्त सजा मिले?

बलात्कार के आरोपी स्वामी चिन्मयानंद को भी सत्ता और पैसे की ताकत ने आखिरकार बचा ही लिया.

यह कोई पहला मौका नहीं है जब संत के लबादे में छिपे कामुक भेड़िए को सत्ता की मेहरबानियों ने बड़ी ही आसानी से उबार लिया. इस से पहले के मामलों में भी उन का बाल बांका नहीं हुआ है.

संत का चोला ओढ़ कर असंतई करने वाले बाबा के खिलाफ मुकदमों की फाइलें विभागों और अदालतों के खानों में पड़ी धूल फांकती रहीं और स्वामी अपनी यौन पिपासाओं की शांतिक्रिया में रत रहे.

ये भी पढ़ें- जनता का दर्द नहीं सुनना चाहती सरकार

पीङिता का यूटर्न

भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती पर बीते साल बलात्कार का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा ने कोर्ट में यूटर्न लेते हुए उन पर लगाए बलात्कार के आरोप को वापस ले लिया है.

एमपी एमएलए विशेष कोर्ट में उस ने जज के सामने कहा,"चिन्मयानंद ने उस:के साथ कोई बलात्कार नहीं किया है."

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT