बात कुछकुछ ‘तीतर के दो आगे तीतर, तीतर के दो पीछे तीतर, आगे तीतर, पीछे तीतर, बोलो कितने तीतर...’ जैसे गाने की है, जो शोमैन राजकपूर की फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में स्कूली बच्चों और उन की टीचर बनी सिमी ग्रेवाल पर फिल्माया गया था. मासूम बच्चे हैरानी से तीतरों की गिनती करते रहे थे लेकिन किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाए थे. यही हाल देश के आम लोगों का है जो यह समझने में खुद को नाकाम पा रहे हैं कि आखिर सीबीआई में जो कुछ हुआ वह था क्या.

Tags:
COMMENT