धर्म का चश्मा पहन कर सोच भी अंधी हो जाती है. रायपुर (भाटापाड़ा) के गांव टेहका में 3 आंखें, 2 नाभि व सिर पर एक मांस के पिंड के साथ बच्चे का जन्म हुआ. उसे देखने के लिए सैकड़ों लोग वहां जा पहुंचे और खूब चढ़ावा चढ़ा, क्योंकि गणेश पक्ष की समाप्ति व पितृ पक्ष के लगते ही बच्चे का जन्म उसे देवता की श्रेणी में ले आया था. इस में कुदरत की चूक पर कोई ध्यान नहीं दिया गया.

इस मसले पर मनोवैज्ञानिक डाक्टर विचित्रा दर्शन आनंद कहती हैं, ‘‘सवाल न करने की सोच ही इनसान की शख्सीयत उभारने में सब से बड़ी बाधक होती है और इसे जन्म देता है वह माहौल, जिस में कोई शख्स पलताबढ़ता है.

‘‘तभी तो आज भी काला जादू से बीमारी ठीक करने की बात पर विश्वास किया जाता है. मिसाल के तौर पर तिलक हजारिका (जादूगर) ने एक शख्स की पीठ पर थाली चिपका दी और उस की तकलीफ दूर करने का दावा किया.’’

तर्कशास्त्री सीवी देवगन ने काला जादू होने की बात को नकारा है. इसे एक चालबाजी बताया है.

कुछ महीने पहले टैलीविजन पर एक शख्स लटकन बाबा ने भविष्यफल व अचूक उपाय बताने के नाम पर अपनी किस्मत चमका ली. उस बाबा ने कहा कि शंकरजी पर चढ़ा बेलपत्र ले कर उस पर भभूत लगाएं और उस का तावीज बना कर गले में डाल लें. आप के सारे रुके काम पूरे हो जाएंगे.

इस से ज्यादा मजाकिया बात और क्या होगी? फिर भी लोग पाखंड के कामों से जुड़े रहते हैं. अपने दिमाग का छोटा सा हिस्सा भी इस्तेमाल में नहीं लाते, तभी तो ऐसे बाबाओं की तादाद में लगातार बढ़ोतरी हो रही है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT