‘रंगदारी टैक्स‘ जिसे पहले ‘गुंडा टैक्स‘ भी कहा जाता था, अब युवाओं में कमाई के जरिये के रूप में पनप रहा है. बिजनेसमैन कई बार डर के चलते चुपचाप इस तरह के अपराध का शिकार हो जाते है. कई बार जब मामले की पुलिस में शिकायत होती है और पुलिस पूरी मुस्तैदी से काम करती है, तो रंगदारी टैक्स की वसूली करने वाले बेनकाब होते हैं. वैसे तो अपराध की यह बीमारी पूरे देश में कमोबेश हर जगह फैली हुई है. जहां शासन व्यवस्था लचर है, वहां इसको फलने फूलने की ज्यादा जगह मिलती है.

COMMENT