सवाल

मैं 38 वर्षीया महिला पति और बच्चों के साथ भोपाल में रहती हूं. मेरी एक बहन 35 वर्ष की है. वह अपने पति और 2 बच्चों के साथ इंदौर में रहती है. उस की अपने पति से कभी नहीं बनी. उस के पति हम से बात करना तक पसंद नहीं करते. उस की शादी को 14 साल हो चुके हैं और इन 14 सालों में मानो मजबूरी में ही उस ने अपनी गृहस्थी चलाई है. लेकिन, अब वह तंग आ चुकी है. कुछ दिनों पहले उस ने नींद की गोलियां खा कर आत्महत्या करने की कोशिश की. मैं अपनी बहन की यह हालत नहीं देख पा रही.

ये भी पढ़ें- मैं एक महिला की तरफ बेहद आकर्षित होता जा रहा हूं. मेरा मन हमेशा उसके लिए बेचैन रहता है. मैं क्या करूं?

जवाब

गृहस्थी पतिपत्नी के आपसी मेल और सामंजस्य से चलती है, लेकिन कभीकभी पतिपत्नी की गाड़ी पटरी पर नहीं बैठती है और दोनों यों ही उसे घसीटते जाते हैं. यदि इस दौरान बच्चे भी आ जाएं तो उन का भविष्य सोचते हुए न साथ रहते बनता है, न अलग रहते बनता है.

आप की बहन और जीजा की भी यही स्थिति है. पतिपत्नी की लड़ाई में पति तो लड़झगड़ कर बाहर निकल जाता है लेकिन पत्नी यदि हाउसवाइफ है तो घर के कामकाज, बच्चों की देखभाल करते हुए, कुढ़ते हुए फ्रस्ट्रेशन का शिकार हो जाती है. अपनी बहन को समझाएं कि अब बच्चे बड़े हो रहे हैं. वे थोड़ा घर से बाहर निकले. कुछ अपनी तरफ ध्यान दे, अड़ोसपड़ोस से मेलजोल बढ़ाए. दोस्तों से मिले, किटी पार्टी जौइन करे. और पति के व्यवहार को नजरअंदाज करे.

आत्महत्या किसी भी समस्या का हल नहीं. पति से तलाक लेना भी आसान नहीं. बच्चों की पढ़ाई, उन के खर्चे, उन का भविष्य सब पहले देखना है. उसे अपने पति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान देने की सलाह दीजिए. वक्त के साथसाथ स्थिति बदल भी जाती है. शायद आप की बहन का बदला हुआ रवैया उस के पति को बदल दे.

ये भी पढ़ें- मेरे पति का अफेयर किसी दूसरी महिलाओं सेे हैं और वो मुझ पर शक करते हैं, मुझे क्या करना चाहिए?

Tags:
COMMENT