लेखक- शाहनवाज

बंगलादेश के 50वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आयोजित समारोह में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुख्य अतिथि बनाए जाने के विरोध में वहां भड़की हिंसा ने कई सवालों को खड़ा किया है. बंगलादेश में स्वतंत्रता के 50 साल पूरे होने पर वहां की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने नरेंद्र मोदी को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया. जिस के विरोध में बंगलादेश में खूनी हिंसा हुई. अल्पसंख्यकों (हिंदू), यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्रों, पत्रकारों, मंदिरों, रेलगाडि़यों आदि पर हमले हुए. इन घटनाओं से 12 लोग जान गंवा चुके हैं.

Tags:
COMMENT