सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफों का दौर खत्म होता दिख रहा है. कोर हिन्दुत्व के विषयों को छोड दे तो बाकी मुद्दों पर मोदी की तारीफ कम होती जा रही है. ‘मोदी भक्ती’ का यह युग नोटबंदी के बाद से प्रभावित होने लगा. नोटबंदी के 50 दिन के बाद मोदी का वादा टूटने से जनता में विरोध का स्वर दिखने लगा. नोटबंदी के बाद जीएसटी ने जिस तरह के कारोबार को प्रभावित किया उससे मोदी के समर्थन में आने वाले संदेश कम हो गये. मोदी का प्रचार करने वाला तंत्र अब महंगाई, अस्पताल में बच्चों की मौत, रेल दुर्घटनाओं पर जवाब देने में पिछड़ने लगा. सोशल मीडिया पर केवल हिन्दू मुसलिम ही ऐसा विषय बचा है जिसके जरीये मोदी सरकार की भक्ति होती दिख रही है. यही वजह है कि मोदी की भक्ति करने वाले बारबार इन मुद्दों को ही लेकर आते है.

COMMENT