नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर टकराव आमने सामने है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जहां एक तरफ केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह 21 जनवरी को रामकथा पार्क में समाजिक संगठनों की एक बड़ी सभा करने जा रहे हैं वही लखनऊ के चैक इलाके घंटाघर पर सीएए और एनआरसी के विरोध में धरना चल रहा है. इसमें बड़ी संख्या में महिलायें और बच्चे हिस्सा ले रहे हैं. यह एक तरह से दिल्ली के शाहीनबाग जैसा धरना चल रहा है. आन्दोलन करने वाले पार्क में धरना दे रहे हैं. जिला प्रशासन ने शहर में धारा 144 लगाकर धरने को खत्म कराने का प्रयास किया. धरना देने वालों और उनका समर्थन करने वालों को अलग अलग तरह से रोकने का काम भी किया जा रहा है इसके बाद भी धरना जारी है.

रात में धरना देने वालों के कंबल और रस्सी की वैरीकेंटिग हटाने का काम पुलिस ने किया. ‘कंबल चोर पुलिस’ सोशल मीडिया पर बुरी तरह से वायरल हो गया. ट्विटर पर यह टौप ट्रेंड पर पहुंच गया. इसके बाद पुलिस को थोड़ा संयम से काम लेना पड़ा. कई लोग तबीयत खराब होने के बाद भी धरना देने में लगे रहे. रिहाई मंच के अध्यक्ष मोहम्मद शोएब एक माह से जेल में बंद थे. वहां से छूटते ही वापस धरने पर बैठ गये. वह कह रहे है कि इस कानून संवैधानिक ढंग से विरोध जारी रहेगा.

ये भी पढ़ें- धर्म और राजनीति किस के लिए होगा राममंदिर ?

चैक घंटाघर के इलाके में प्रदर्शन करने वाली महिलाओं ने अपने चारो तरफ सुरक्षा की नजर से रस्सी का घेरा बना लिया था. जिससे बाहरी कोई उसमें प्रवेश ना कर सके. पुलिस ने जबरन इस रस्सी को हटा दिया. इसके बाद महिलाओं ने खुद से ही एक घेरा बना लिया. पुलिस ने धरने को तोड़ने के लिये सोशल मीडिया पर आने वाली खबरों को रोकने का काम किया. कुछ लोगों को भडकाऊ पोस्ट डालने के लिये मुकदमा भी दर्ज किया गया. इसके बाद भी धरना देने वाला का हौसला टूट नहीं रहा है. पुलिस प्रदर्शन करने वालो के नाम पते नोट करने के बहाने उनको डरा रही है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT