अधिकतर राजनैतिक वैज्ञानिक और विश्लेषक मानते हैं कि पुलवामा हादसे के बाद बालाकोट एयर स्ट्राइक का चुनावी फायदा भाजपा और नरेंद्र मोदी को मिलेगा, मीडिया का बड़ा वर्ग भी इससे सहमत है और 5-6 फीसदी मोदी भक्तों ने तो इस मुद्दे पर हाहाकार मचा रखा है. एक ऐसा माहौल गढ़ने और बनाने की कोशिश जिसे साजिश कहना बेहतर होगा रची जा रही है कि राष्ट्रवाद के अलावा कुछ और न दिखे. यह कोशिश दरअसल में बहुसंख्यकों की असुरक्षा को दर्शाती है जिसके लिए अपना धर्म जाति और गौत्र तक देश से ऊंचा और ऊपर होता है. यह असुरक्षा आतंकवाद या पाकिस्तान को लेकर कतई नहीं है बल्कि बीते पांच सालों में देश में जो हुआ उससे ध्यान बंटाने की एक निरर्थक सी प्रतिक्रिया भर है. कैसे है इसे समझने 2014 की तरफ मुड़ना जरूरी है.

Tags:
COMMENT