एक तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना को रोकने के लिए दिन रात काम करने का दावा कर रहे है, दूसरी तरफ उनके अफसर आधे शहरों में ही फेल होते नजर आ रहे है.असल मे अफसरों को यह लग रहा कि मुख्यमंत्री अपने प्रभाव और शक्तियों के बल पर कोरोना को रोक लेगे उनको काम करने की जरूरत ही नही है. धर्म मे कर्मकांड अगर कोरोना को रोकने में सफल होते तो चर्च, मस्जिदों, गिरजाघरों, मंदिरों और गुरुद्वारा को बन्द करने की जरूरत ही नही पड़ती .

Tags:
COMMENT