कहानी प्राचीन काल की है कि एक गांव में एक अंधा और एक लंगड़ा रहते थे. दोनों को शहर मेले में जाना था. एक देख नहीं सकता था, दूसरा चल नहीं सकता था. उन्हें एक युक्ति सूझी. लंगड़ा अंधे के कंधे पर बैठ कर उसे राह दिखाने लगा और दोनों ने मेले में पहुंच कर खूब लुत्फ उठाया. इस कहानी से परस्पर सहयोग और तात्कालिक सूझबूझ की नैतिक शिक्षा मिलती थी.

COMMENT