तारीखों की घोषणा के पहले ही मध्यप्रदेश में चुनाव प्रचार ज़ोर पकड़ने लगा है इधर बड़े राजनैतिक दल स्टार प्रचारकों की सूची बना रहे हैं कि कब किसे कहां बुलाया जाना कारगर रहेगा लेकिन आदिवासियों के तेजी से उभरते दल “जय आदिवासी युवा शक्ति” यानि जयस ने फिल्म अभिनेता गोविंदा को बुलाकर दोनों प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस की चिंताओं में और इजाफा कर दिया है.

politics govinda promotes tribal party jayas

जयस प्रमुख डाक्टर हीरालाल अलावा ने गांधी जयंती पर पार्टी लांच पर गोविंदा को आमंत्रित किया तो व्यक्तिगत सम्बन्धों को निभाते गोविंदा निमाड इलाके के कस्बे कुक्षी पहुँच भी गए जहां आमतौर पर लोग कोई वजह न हो तो जाने से कतराते हैं.

कुक्षी में हजारों की तादाद में जमा आदिवासियों ने खासतौर से उनके लिए आए गोविंदा को रूबरू देखा तो गोविंदा भी भीड़ देख हैरान थे. कभी मुंबई से कांग्रेस के सांसद रहे गोविंदा के भीतर का नेता बेहद जज्बाती होकर बोला आप लोगों का प्यार देखकर अभिभूत हूं.

politics govinda promotes tribal party jayas

हालांकि राजनीति को अलविदा कह चुके इस हीरो ने सियासी बातों से परहेज ही किया लेकिन जयस की धमाकेदार एन्ट्री में जरूर उन्होने जान फूंक दी. इस मौके पर उन्होंने आदिवासी परम्परा के प्रतीक तीर कमान भी हाथ में उठाया.

गौरतलब है कि जयस 80 विधानसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारने का एलान कर चुकी है और किसी पार्टी से समझौता या गठबंधन की बात भी नकार चुकी है. सियासी हल्कों और गलियारों में अब इस बात की चर्चा ज्यादा है कि वह भाजपा और कांग्रेस में से किसे ज्यादा नुकसान पहुंचाएगी. राजनैतिक विश्लेषकों के हिसाब किताब से परे खुद हीरालाल अलावा यह मानने में संकोच नहीं करते कि जयस भाजपा का ज्यादा नुकसान करेगी.

politics govinda promotes tribal party jayas

आक्रामक रुख अख़्तियार किए जयस मुखिया का कहना है कि आजादी के 70 सालों बाद भी किसी ने आदिवासियों के भले के लिए कुछ नहीं किया है. बक़ौल हीरालाल अलावा जयस के मुद्दे बेहद साफ हैं और हर कोई देख और समझ रहा है कि आदिवासी इलाकों में शिक्षा और स्वास्थ सेवाओं की हालत बद से बदतर है. 10 राज्यों के कोई 10 लाख आदिवासी युवा जयस से जुड़ चुके हैं जिन्होंने नारा दिया है “इस बार आदिवासी सरकार”.

लेकिन क्या ऐसा हो पाएगा इस पर हीरालाल अलावा कहते हैं क्यों नहीं हो सकता अब तक सभी राजनैतिक पार्टियां आदिवासियों का इस्तेमाल भर करती रहीं हैं लेकिन अब जयस के बैनर तले आदिवासी एकजुट हो रहा है. युवा आदिवासियों को पांचवी अनुसूची के माने भी समझा रहे हैं और उन्हें यह भी बता रहे हैं कि एक नपीतुली साजिश के तहत उन्हें हिंदु करार दिया दिया जाता है. आदिवासी प्रकृति उपासक हैं और उनकी सहजता व मौलिकता कभी किसी सबूत की मोहताज नहीं रही. आदिवासी संस्कृति से खिलवाड़ के षड्यंत्र अब सफल नहीं होने दिये जाएंगे. इसके लिए जरूरी है कि आदिवासी अपने मौलिक अधिकार पहचानें और राजनीति में ताकत बनकर उभरें.

politics govinda promotes tribal party jayas

इसमें कोई शक नहीं कि जयस की धमक से भाजपा ज्यादा चिंतित है क्योकि उसे आदिवासी इलाकों से खासे वोट और सीटें मिलने लगीं थीं. पांच सालों से जमीनी मेहनत कर रहे हीरालाल अलावा बेहद पेशेवर अंदाज से पेश आ रहे हैं. जल्द ही जयस के प्रचार अभियान में दो और दिग्गज अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती और नाना पाटेकर भी नजर आएंगे और कुछ वामपंथी विचारक भी सक्रिय हो सकते हैं.

देखना दिलचस्प होगा कि एम्स जैसे नामी संस्थान से नौकरी छोडकर घर वापस आए हीरालाल अलावा अपने मकसद में कितने कामयाब हो पाएंगे. अभी तक का कटु अनुभव तो यह रहा है कि आदिवासियों के नाम पर कई राजनैतिक दल और संगठन बने हैं लेकिन कुछ अपनी खुदगर्जी के चलते जेबें भर कर चलते बने तो कइयों को ईसाई मिशनरियों और आरएसएस जैसे संगठनो ने मिटाने में अहम रोल निभाया ऐसे में जोरदार शुरुआती रेस्पोंस हासिल कर चुके इस युवा डाक्टर के कंधों पर यह महती ज़िम्मेदारी होगी कि वह आदिवासियों की उम्मीदों पर खरा उतरे.

politics govinda promotes tribal party jayas

बात जहां तक फिल्मी हस्तियों को बुलाकर प्रचार करने की है तो यह हक जयस को भी है ऐसा पहली बार हुआ है कि कोई नामी अभिनेता आदिवासियों की पार्टी के लिए राज्य में आया इससे आदिवासियों का जोश और बढ़ा ही है. उमड़ी भीड़ देखकर गोविंदा भी मौका नहीं चूके और उन्होने 12 अक्तूबर को प्रदर्शित होने जा रही अपनी फिल्म फ्राइडे का भी प्रमोशन कर डाला. भीड़ की मांग पर उन्होने ठुमके भी लगाए और अपनी पुरानी हिट फिल्मों के संवाद भी दोहराए.

COMMENT