अयोध्या के राम मंदिर पर फैसला भले ही दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट से सुनाया जाना था पर इसमें गांवगांव तक रहने वालो के कान लगे थे. एक रात पहले से ही लोगों के दिलों में तमाम आशंकायें घर कर गई थी. चिन्ता की लकीरों का आलम यह था कि दूर दराज के बाजार और सड़को पर सन्नाटा सुबह से ही परस गया था. हर कोई यह सुनने को बेचैन था कि फैसला क्या असर डालेगा ? जैसे जैसे सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने लगा जनता को राहत महसूस होने लगी.

Tags:
COMMENT