2012 के विधनसभा चुनाव और 2014 के लोकसभा चुनाव में दो लगातार चुनाव जीत चुकी अनुप्रिया पटेल के लिये 2019 का चुनाव जीत कर हैट्रिक लाना सरल काम नहीं रह गया है- इस चुनाव में अपना दल दो हिस्सो में बंट चुका है और पूर्वांचल से ही अनुप्रिया की मां दूसरे पार्टी के साथ उनको चुनौती देने के लिये चुनाव मैदान में हैं. ऐसे में अनुप्रिया पटेल भाजपा के लिये मदद पहुंचाने के बजाय कमजोर कड़ी साबित हो सकती है-

Tags:
COMMENT