गैरों पर एतबार हो जाए
दुश्मन से भी प्यार हो जाए

नींद आंखों से उड़ जाए कहीं
उन से नजरें जो चार हो जाएं

हो कमान खिंची उन के हाथों में
और तीर जिगर के पार हो जाए

यों बेरुखी भी गवारा है तेरी
चाहे जीना दुश्वार हो जाए

फकत एक बार मुझे अपना कह दे
जान तुझ पर निसार हो जाए

भीगी जुल्फों को लहराओ तो सही
मौसमेखिजां भी बहार हो जाए.
अब्दुल कलाम

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT