वो

जब पड़ोस वाली

सड़क वाली

बस स्टाप वाली

औफिस वाली

बाज़ार वाली

के बीच

हंसी ठिठोली

नैन मटक्का

कर

रात में

घर वाली के

बगल लेटता है

तो सोचता है

ज़िन्दगी कितनी नीरस है

मेरे तो भाग्य ही फूट गए।

और वो

जब सारा दिन

खाली घर

सूनी दीवारों

रिसते नल

बिखरे बर्तनों

के बीच

भूतनी सी

टकराती

घूमती

थकती

रात में

घरवाले के

बगल लेटती है

तो सोचती है

ज़िन्दगी में कितना सुख है

मुझ सी भाग्यवान भी कोई है?

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT