कोसी और घाघरा

भेद के फासले

मिटा गई घरों के

दिल्ली की सड़कों पर भी

नाव चले

तो कुछ बात बने

 

अट्टालिकाओं के झरोखे से झांकता

शहर का आदमी

इस उम्मीद में कि

धरती और आस्मां

एकसाथ दिखें

तो कुछ बात बने

 

घुप्प अंधेरा निराश मन

शहर की ओर ताकता इंसान

इस उम्मीद में कि

उस का पोता राहुल भी

पांवपांव चले

तो कुछ बात बने

आनंद नारायण

 

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT