एलजीबीटी समुदाय के 7वें फिल्म फेस्टिवल ‘कशिश” का उद्घाटन मुम्बई में किया गया. इसका उद्देश्श्य यह रहा कि एलजीबीटी समुदाय के लोग इस विषय पर बिना झिझक बड़े परदे पर आम लोगो के साथ बैठकर एलजीबीटी पर बनी फिल्मों को देख सकें. इसके अलावा आम लोगो में इस समुदाय को लेकर गलत अवधारणा है, उसका समाधान हो. लोगों मे इस समुदाय को अपनाने की जागरूकता बढ़े. इस बारे में समारोह के आयोजक श्रीधरन का कहना है कि बहुत कम लोग इस समुदाय को जानते हैं, लोग उनको अजीब समझते हैं, जबकि ये लोग आम इंसान की तरह ही होते हैं, आम घरों में रहते हैं, ऑफिस में जाते हैं, इनकी सोच सिर्फ अलग होती है. ये सेक्सुअल नहीं होते, न ही अपराधी होते है. समस्या ये है कि इन्हें धर्म, समाज, कानून और परिवार एक्सेप्ट नहीं करते. कुछ ही देशों में इन्हें मान्यता दी गई है.

COMMENT