प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इलाके बनारस में घुस कर बिहार के मुख्यमंत्रा और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने संघमुक्त भारत और शराबमुक्त समाज का हुंकार भर कर मोदी को खुली चुनौती दे डाली. नीतीश ने भाजपा शसित राज्यों को तो शराबमुक्त बनाने की दलील दी पर बिहार में अपने साथी कांग्रेस शसित राज्यों में शराबबंदी को लेकर अपने मुंह बंद रखा. 12 मई को नीतीश ने उत्तर प्रदेश में अपने सियासी मुहिम की शुरुआत कर अपनी पार्टी जदयू की जड़ें जमाने की पुरजोर कोशिश की. बनारस एयरपोर्ट के पास पिंडारा इंटर कौलेज मैदान  में जदयू के कार्यकर्त्ता सम्मेलन कर नीतीश ने 2019 तक दिल्ली पहुंचने का बिगुल फूंक दिया है. नीतीश को पता है कि उत्तर प्रदेश से होकर ही दिल्ली की कुर्सी तक पहुंचा जा सकता है. नरेंद्र मोदी के साथ नीतीश की सियासी कडुवाहट जगजाहिर है और बिहार के बाद अब दिल्ली में मोदी को हराने के लिए नीतीश कोई भी कोर-कसर छोड़ना नहीं चाह रहे हैं. बिहार से सैंकड़ों बसों में भी कर लोगों को बनारस पहुंचाया गया है.

COMMENT