इसमें कोई शक नहीं कि बेटी का रिश्ता तय करते वक्त मां बाप इस बात पर ज्यादा गौर करते हैं कि कहीं लड़के की बड़ी बहन अविवाहित तो नहीं. इसकी वजह भी बेहद साफ है कि घर में चलती उसी की है. सास अब पहले की तरह ललिता पवार जैसी क्रूर नहीं रह गई है, लेकिन बड़ी अविवाहित ननद बिन्दु, अरुणा ईरानी और जयश्री टी जैसी हैं, जिसके हाथ में घर की न केवल चाबियां बल्कि सत्ता भी रहती है, इसीलिए उसे डेढ़ सास के खिताब से नवाजा जाता है. छोटे भाई को वह बेटा भी कहती है और दोस्त भी मानती है. ऐसे में बेटी शादी के बाद उससे तालमेल बैठा पाएगी इसमें हर मां बाप को शक रहता है.

बेटी भले ही रानी बनकर राज न करे चिंता की बात नहीं, लेकिन ससुराल जाकर ननद के इशारों पर नाचने मजबूर हो यह कोई नहीं चाहता क्योंकि भाई का स्वभाविक झुकाव कुंवारी बड़ी बहन की तरफ रहता ही है. हालांकि इसके पीछे उसकी मंशा यह रहती है कि दीदी को एक अच्छी सहेली और छोटी बहन मिल जाएगी, लेकिन अधिकतर मामलों में ऐसा होता नहीं है क्योंकि पत्नी और बहन दोनों उस पर बराबरी से हक जमाते कुछ दिनों बाद बिल्लियों की तरह लड़ती नजर आती हैं.

भोपाल के 32 वर्षीय बैंक अधिकारी विवेक की बड़ी बहन 36 वर्षीय प्रेरणा की शादी किन्हीं वजहों के चलते नहीं हो पाई थी. मां की इच्छा और असशक्ता के चलते तीनों ने फैसला यह लिया लिया कि विवेक ही शादी कर ले. पिता थे नहीं, इसलिए विवेक की तरफ से शादी के सारे फैसले प्रेरणा ने लिए. शुचि के मां बाप ने भी मन में खटका लिए ही सही शादी कर दी. शुरू में प्रेरणा का रवैया बेहद गंभीर और परिपक्व था उसने पूरे उत्साह और जिम्मेदारी से शादी सम्पन्न कराई और शुचि को भाभी के बजाय छोटी बहन ही कहा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT