आज के दौर में युवा पीढ़ी शादी करने से कतराती है तो इसके बहुत से कारण हो सकते हैं. वहीं बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो शादी ही नहीं करना चाहते. शादी न करने वाले लोगों का आंकड़ा पिछले काफी समय में बढ़ गया है. जबकि भारत में शादी को एक खूबसूरत रिश्ता माना जाता है, इसके जरिए दो इंसानों का ही नहीं बल्कि दो परिवारों का भी मेल होता है. तो चलिए इस लेख के जरिए जानते हैं कि युवा पीढ़ी शादी करने से आखिर क्यों कतराती है.

शादी के बाद समझौते – जिंदगी एक बार ही मिलती है और स्वभाविक है कि आप इसे अपनी इच्छा के मुताबिक जीना चाहते हैं. लेकिन शादी के बाद आपको अपने साथी की इच्छाओं के बारे में ज्यादा सोचन पड़ता है. आपका साथी क्या चाहता है? उसे किस चीज की जरुरत है. इन सबके बीच आपको उन सभी चीजों के साथ समझौता करना होता है जो आपको खुशी देती हैं. शादी के बाद लोगों को कई तरह के समझौते करने होते हैं लेकिन हर इंसान अपनी जिंदगी और इच्छाओं के साथ समझौता नहीं करना चाहता इसलिए वे शादी करने से इंकार कर देते हैं.

शादी का खर्च – आजकल शादियों में काफी पैसे खर्च होते हैं. यह एक बड़ा कारण है जिसके चलते लोगों का मानना है कि शादी करना एक बेकार का फैसला है. जिस तरह की व्यवस्था के साथ हमारे समाज में शादी होती है उस पर लाखों रुपये खर्च हो जाते हैं और कुछ परिवार तो इसके कारण कर्ज में भी डूब जाते हैं. इसलिए नई पीढ़ी के युवा इस तरह की फिजूलखर्ची से खुद को बचाने के लिए शादी से दूरी बना रहे हैं.

अकेले रहना  – हर इंसान के सोचने का तरीका अलग होता है. अधिकतर लोग मानते हैं कि जिंदगी जीने के लिए एक साथी की जरुरत होती है और अकेले जिंदगी काटना बेहद मुश्किल होता है. हालांकि अब ये सोच बदल गई है. अब बहुत से लोगों का मानना है कि अकेले रहना उनके लिए बेहतर है और वो अपनी जिंदगी को अकेले रह कर अच्छे से एक्सप्लोर कर सकते हैं.

जिंदगी में परिवर्तन – यह एक बड़ा कारण है जिसकी वजह से युवा शादी से कतराने लगे हैं. उनका मानना है कि शादी के बाद लोगों के बीच सहजता और स्वभाविकता खत्म हो जाती है. जिससे उनकी शादीशुदा जिंदगी में बहुत सी मुश्किलें खड़ी हो जाती हैं.

शादी का असफल होना – पिछले कुछ सालों में भारत में तलाक के मामलों में तेजी आई है. यह एक बड़ा कारण है जिसकी वजह से लोग शादी का फैसला लेने में सहज महसूस नहीं करते.

Tags:
COMMENT