प्यार, ये शब्द सुनते ही हम ठहर जाते हैं. प्यार दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज होती है, ये हर चीज में जान डाल सकती है. और यही कारण है कि इंसान हो या पशु, सब प्यार के तलाश में भटकते रहते हैं. लेकिन सवाल यह है कि में प्यार है क्या? क्या आप जानते हैं कि वास्तव में प्यार होता  क्या है?

कभी-कभी ऐसा होता है, हम प्यार का मतलब गलत तरह से भी निकाल लेते हैं और ऐसे में इस बात को समझ नहीं पाते हैं कि हमारे चारों तरफ प्यार है. और जब हम प्यार का सही मतलब समझने लगते हैं, तो हमें अपना जीवन और पूरी दुनिया सबसे हसीन और खूबसूरत लगने लगती है, जिससे हम सबसे ज्यादा खुश और संतुष्ट महसूस करते हैं. तो आइये जानते हैं, प्यार के बारे में हम  क्या सोचते हैं और वास्तव में सच्चा प्यार क्या है?

सच्चा प्यार इमोशनल अटैचमेंट से अलग होता है – यह हमेशा लोगों के बीच एक आम गलतफहमी होती है कि अगर आप भावनात्मक रूप से किसी से जुड़ें हुए हैं तो वह सच्चा प्यार है. लेकिन दोनों में काफी अंतर होता है.

सच्चा प्यार क्या है – सच्चा प्यार का मतलब किसी को पाना नहीं होता है. बल्कि उसके लिए अपनी खुशी कुर्बान करना होता है. सच्चा प्यार सिर्फ शारीरिक आकर्षण नहीं होता है. जब आप प्यार में होते हैं तो आपको अपने आस-पास की चीजें खूबसूरत लगने लगती हैं. आप अपने पार्टनर के लिए बहुत ऐसी चीज करते हैं जिससे उनके चेहरे पर खुशी आ जाती है.

प्यार, आकर्षण और वासना में अंतर–  प्यार, आकर्षण और वासना के बीच कन्फ्यूज नहीं होना चाहिए, क्योंकि इन तीनों के बीच एक स्पष्ट अंतर होता है. अगर आप इन तीनों को मिला देंगे तो यह आपके लिए हानिकारक अनुभव हो सकता है. किसी को देखकर अगर आपको सिर्फ उससे शारीरिक संबंध बनाने का ख्याल आता है तो वह प्यार नहीं होता है. अगर आपको सिर्फ कोई अच्छा लगता है तो आपको उसके साथ कुछ समय बिताना अच्छा लगता है, लेकिन अगर आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं तो आप उसके साथ अपनी पूरी जिंदगी बिताना चाहते हैं.

क्या पहली नजर में प्यार होता है – जी हां, पहली नजर में प्यार होता है. अक्सर लोगों में यह गलतफहमी होती है कि पहली नजर में जो होता है वो प्यार नहीं आकर्षण होता है लेकिन ऐसा नहीं है. पहली नजर में हुए प्यार से भी लोग शादी तक पहुंच जाते हैं.

Tags:
COMMENT