वह जमाना गया जब लोग प्लस साइज के पुरुष या महिला को अलग नजरों से देखते थे. उन्हें पहनने के लिए ढंग के कपडे़ नहीं मिलते थे. अपनी इस कदकाठी के लिए शर्म महसूस करते थे. अपने मोटापे को कम करने के लिए वे जिम और डाइट का सहारा लेते थे. आजकल 10 में से 1 महिला प्लस साइज की दिखती है. यह आज की जीवनशैली और खानपान का असर है. आज अधिकतर महिलाएं घरेलू खाने से अधिक जंक फूड खाती हैं, जिस की वजह से कम उम्र में ही वे प्लस साइज की हो जाती हैं. ऐसे में उन्हें सही आउटफिट की तलाश हमेशा रहती है. प्लस साइज के तहरतरह के फैशनेबल और सैक्सी कपड़े आजकल बाजार में भी आसानी से उपलब्ध हैं. डिजाइनर्स नित नए डिजाइन के प्लस साइज कपड़े बाजार में उतार रहे हैं.

Tags:
COMMENT