महिला अधिकार के नाम पर परिवार को प्रभावित करने वाले ऐसे कानून बन गए हैं जिन से दांपत्य जीवन खतरे में पड़ गया है. ऐसे में तमाम लोगोें के लिए पत्नी से छुटकारा पाने के वास्ते तलाक लेना या उसे छोड़ देना व्यावहारिक नहीं रह गया है. अपराधी प्रवृत्ति के लोग अब हत्या जैसे आपराधिक काम करने लगे हैं.

Tags:
COMMENT