देश में स्वास्थ्य एक ऐसी समस्या है जो अमीर हो या गरीब सबके लिए अलार्मिंग सिचुएशन होती है. अस्पतालों में लगी लंबी कतारें बताती हैं कि हम दिनबदिन अस्वस्थ होते जा रहे हैं. लेकिन इसमें एक बड़ा वर्ग ऐसा भी होता है जो अस्पताल या डौक्टर के पास जाने के बजाए अखबारों, पत्रिकाओं और टीवी से हेल्थ प्रोग्राम देखपढ़ अपनी स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान खोजता है. हालांकि यह गंभीर बीमारियां नहीं होती लेकिन ‘मोटापे से कैसे छुटकारा पाएं’, आंखों की रोशनी बढाने के लिए या ‘याददाश्त बढ़ाने के नुस्खे’, ‘पाचन सही करने के देसी उपाय’, ‘बौडी बिल्डर बनने के 10 टिप्स’ जैसे टौपिक्स पर आम लोग यही से पढ़कर और आजमाकर अपना इलाज या डाइट बना लेते हैं. फिर इसके बाद कई गंभीर मामले में भी वे इन्ही रिपोर्ट्स के आधार पर ट्रीटमेंट लेने लगते हैं.

Tags:
COMMENT