पापा के हार्ट की बाईपास सर्जरी हुई थी. सर्जरी के 5 दिनों बाद आईसीयू से बाहर आने पर डाक्टर ने उन्हें थोड़ा टहलाने की सलाह दी थी. मैं ने पापा से कहा , ‘‘पापा, उठिए थोड़ा टहलते हैं.’’ उन्होंने नजरें उठा कर कहा, ‘‘तुम ने छुट्टी ले रखी होगी? तुम लोगों को तो छुट्टी मुश्किल से मिलती है.’’

इस पर मैं ने कहा, ‘पर पापा तो स्पैसिफिक इंपौर्टैंट एसेट होते हैं.’ मुझे और मेरे पास खड़े मेरे पति अमित की ओर देख कर पापा मुसकरा दिए, उन की आंखों में आंसू आ गए. मैं और मेरी बहन श्रुती, हम 2 बेटियां ही हैं पापा की. पापा हम बहनों के साथ बचपन से ही बड़े फ्रैंडली रहे हैं.अति विशिष्ट पहचान वाले, व्यस्त विद्युत अभियंता होने के बावजूद समय मिलते ही पापा हमारे साथ बैडमिंटन खेलते, कैरम और लूडो खेलते, बेईमानी करते और हम से झूठमूठ का झगड़ते.

ये भी पढ़ें-कोरोना काल में ऑफिस जाना है पड़ सकता है भारी इसलिए बरतें ये

दिल तो बच्चा है जी

कभी बोलते, ‘चलो, बाहर डिनर कर के आते हैं’ या ‘चलो, आइसक्रीम खा कर आते हैं.’ कभी किचन में जा कर बोलते, ‘चलो, आज मम्मी की किचन से छुट्टी, हम कुकिंग करते हैं.’ पढ़ाई में कभी कम अंक आते या खेल में हम चोट लगा कर आते तो बोलते, ‘ये सब तो जिंदगी के फंडे हैं, बच्चों. इस से घबराते नहीं. नए जोश से काम शुरू करते हैं, धैर्य नहीं खोते.’ पापा की इन बातों का हम बहनों पर दिल की गहराई तक असर होता और हम आत्मविश्वास  से भरभर जाते. हमारे महान पापा, उन्होंने हमें हर क्षेत्र में और हमेशा उत्कृष्ट रहने की प्रेरणा दी. उन की सीख का यह नतीजा रहा कि मैं बीसीए करने के बाद सीडीएस उर्त्तीण कर के आज एयरफोर्स में अपने पति के साथ विंग कमाडंर हूं और श्रुती, एमबीए कर के अपने पति के साथ फाइनैंस सलाहकार के रूप में कार्यरत है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT