लेखिका-नमिता शर्मा

मेरे पापा अनुशासनप्रिय थे. पापा ने बचपन से हमें मातृविहीन होने के कारण मांपापा दोनों का प्यार दिया. बीमारी की अवस्था में मां का निधन मात्र 30 वर्ष में हो गया था. उन की अंतिम इच्छा थी कि उन के बच्चे खूब पढ़ें. लोगों की बहुत इच्छा थी कि पापा दूसरा विवाह कर लें, परंतु पापा ने हम बहनों की वजह से विवाह नहीं किया. उन्होंने हम लोगों के लालनपालन व हम लोगों की शिक्षादीक्षा में ही अपने को समर्पित कर दिया मेरी नानीमां भी हमारे साथ ही रहतीं थीं. उन की सेवा, अपनी नौकरी, सबकुछ उन्होंने बहुत व्यवस्थित ढंग से किया. आज हम भाईबहन सभी उच्च पदस्थ हैं. आज वे हमारे बीच नहीं है परंतु उन की स्मृतियां आज भी हमारा संबल हैं.

Tags:
COMMENT