सिगरेट पीना स्वास्थ के बहुत हानिकारक है. इससे स्वास्थ संबंधित बहुत सी बीमारियां होती हैं. फेफड़ों के लिए खासकर के ये हानिकारक होता है. सिगरेट में पाए जाने वाले निकोटीन का प्रभाव सिगरेट पीने के 40 मिनट बाद भी रहता है. बदलते वक्त के साथ ये लोगों में एक फैशन के तौर पर उभर रहा है और इसका स्वरूप भी बदल रहा है. आज एक बड़ी आबादी में ई सिगरेट पीने का चलन तेजी से बढ़ रहा है. लोगों का मानना है कि ई सिगरेट पीने से लोगों की सेहत पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता है. पर असल बात धारणाओं के बिल्कुल उलटा है.

ई सिगरेट से स्वास्थ पर होने वाले प्रभावों के बारे में हाल ही मे एक स्टडी हुई. आइए जाने कि इससे क्या बातें सामने आई हैं.

ईसिगरेट पर हुई एक स्टडी की माने तो इसका सेवन करने वाले लोगों में डिप्रेशन होने की संभावना दोगुनी हो जाती है. इसके बाद जो लोग इसके स्वास्थ पर नकारात्मक असर ना करने का दावा करते रहे, उनकी बातें धरी की धरी रह गईं. इस स्टडी को और भी विश्वसिनिय बनाने के लिए शोधकर्ताओं ने करीब 96,000 लोगों को शामिल किया. इस स्टडी के जो परिणाम आए वो काफी चिंताजनक रहे.  शोध के मुताबिक जो लोग ई सिगरेट का सेवन करते हैं, उन्हे हार्ट अटैक से होने वाला खतरा 56 प्रतिशत तक बढ़ जाता है. वहीं लंबे समय तक इसका सेवन करने से ब्लड क्लोट की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है.

स्टडी में शामिल जानकारों का कहना है कि ‘हमारी ये स्टडी जो लोग सिगरेट का सेवन करते हैं, उनकी आंखे खोलने के लिए काफी है. ये समझना जरूरी है कि आप ई सिगरेट कम  पिएं या ज्यादा, आपको हार्ट अटैक होने का खतरा बना रहेगा.’

Tags:
COMMENT