‘दिल से शरीर के अंगों का संचालन होता है. मौजूदा समय में रूमैटिक हार्ट डिजीज के मामले काफी आ रहे हैं. खराब लाइफस्टाइल भी हार्टअटैक की समस्या को बढ़ावा दे रही है. बच्चों में जन्मजात हृदयरोग के साथसाथ रूमैटिक हार्ट डिजीज यानी आरएचडी के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं. विकासशील देशों में रूमैटिक हार्ट डिजीज ज्यादा मिलती है.

5 से 15 साल के बच्चे रूमैटिक फीवर से ज्यादा ग्रसित हो रहे हैं जोकि ग्रुप ए स्ट्रैप्टोकोक्कल इन्फैक्शन के कारण होता है.

ये भी पढ़ें- चने की दाल के ये 6 फायदें जानकर आप भी करेंगे रोज इस्तेमाल

क्या है रूमैटिक हार्ट डिजीज

रूमैटिक हार्ट डिजीज एक छोटी अवधि (एक्यूट) और एक लंबी अवधि (क्रोनिक) के हार्ट डिस्और्डर का एक समूह है. इस में घटित या उत्पन्न समस्या को रूमैटिक फीवर कहते हैं. रूमैटिक फीवर आमतौर पर हार्ट के वौल्व को नुकसान पहुंचाता है. इस से वौल्व डिस्और्डर भी हो सकता है. वौल्व खून के बहाव को कंट्रोल में रखते हैं. यह एक तरह की पतली सी झिर्री होती है जो मुख्यतया 4 तरह की होती हैं, ऐऔर्टिक, मिटरैल, पल्मोनरी और ट्रीकस्पिड.

हार्ट डिजीज कई तरह की होती हैं, लेकिन रूमैटिक हार्ट डिजीज को बाल्यावस्था से होने वाला रोग भी कहा जाता है. वैसे वौल्व हार्ट डिजीज होने के बहुत से कारण हैं. बाल्यावस्था में बारबार गला खराब रहने, ब्लड में इन्फैक्शन होने, जन्मजात सिकुड़न होने, डिजनरेटिव डिजीज, कौलाजन टिश्यू डिस्और्डर होने और तनाव के कारण भी आजकल लोगों को हार्ट की बीमारियां हो रही हैं.

ये भी पढ़ें- आप का वजन कम करने में मददगार हैं ये 5 फल

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT