बोलचाल की भाषा में भेंगापन को आंखों का तिरछापन भी कहते हैं. अगर इस का समय पर पता न चले और इलाज न कराया जाए, तो बाद में इस का पूरी तरह ठीक होना थोड़ा मुश्किल हो जाता है. लखनऊ के राजेंद्र अस्पताल के आंखों के जानेमाने डाक्टर सौरभ चंद्रा कहते हैं, ‘‘आंखों का भेंगापन या तिरछापन, जिस को अंगरेजी में सिक्विंट कहते हैं, ऐसी बीमारी है, जो किसी भी उम्र में आदमी और औरत को हो सकती है. अगर इस बीमारी का पता शुरू में ही चल जाए, तो इलाज आसान हो जाता है.’’

Tags:
COMMENT