आधुनिक परिवेश में उच्चवर्ग में ही नहीं, मध्यवर्ग के परिवारों में भी प्रतिदिन सलाद खाने की परंपरा बन गई है. कई स्त्रीपुरुषों को सलाद के बिना खाना हजम नहीं होता. हालांकि बच्चे सलाद खाने से आनाकानी करते हैं पर सलाद को चटपटे ढंग से बच्चों के सामने परोसने से वे उसे खुशीखुशी खा लेते हैं. डाक्टर भी सभी छोटेबड़ों को सलाद खाने का परामर्श देते हैं. मोटे स्त्रीपुरुषों के लिए सलाद बहुत लाभदायक बताया जाता है. सलाद खाने से न सिर्फ अनाज व घी, तेल से बने खाद्य पदार्थ कम मात्रा में खाए जाते हैं बल्कि घी, तेल के खाद्य पदार्थों से बच भी सकते हैं.

Tags:
COMMENT