सुबह-सुबह गोभी और आलू के पराठे, मक्खन मार के, दही और अचार के साथ टेबल पर आये तो सबके मुँह पानी से भर गए. छक्क कर खाया, लम्बी डकार मारी और फिर लस्सी का बड़ा सा गिलास भी गटक गए. नाश्ता करके थोड़ी देर टीवी देखा और फिर लगे खर्राटे बजाने. दोपहर में किचेन से शालू की आवाज़ आई कि लंच तैयार है.सब फ़टाफ़ट उठ कर टेबल पर जम गए.आज लंच में अम्मा और शालू ने मिल कर बिरयानी और कोरमा बनाया था.

Tags:
COMMENT