लेखक-पिंटू लाल मीणा,

कृषि पर्यवेक्षक फल व फूल का गिरना प्रकृति का नियम है. जितने फूल आते हैं, उन में से काफी गिर जाते हैं और आम में तो 1,000 फूलों में से सिर्फ 1 फूल पर फल लग कर आम बनता है, बाकी सब आम बनने से पहले ही गिर जाते हैं. लेकिन यदि अधिक मात्रा में फूल गिर रहे हैं, तो उस अवस्था में कुछ उपाय अपना कर इस पर कुछ हद तक नियंत्रण पा सकते हैं, जो लाभकारी पाए गए हैं. इसी प्रकार अनार, अमरूद, नीबू, बेल, टमाटर, मिर्च, बैगन व अन्य पौधों में फल व फूल का गिरना एक आम समस्या है और ज्यादा गिरने या ?ाड़ने पर उचित उपाय किया जाना बेहद जरूरी है.

फल और फूलों के गिरने की वजह

* अनार में नर और मादा फूल अलगअगल होते हैं. नर निषेचन के बाद गिर जाते हैं और मादा पर फल बनते हैं.

* यदि फूल वसंत के प्रारंभ में ही गिरने लगे जाते हैं, तो उस में कीट का प्रकोप हो सकता है. जैसे सफेद मक्खी, मिली बग आदि.

ये भी पढ़ें- बीज बम से लौटेगी धरती की हरियाली

* कई बार फंगसजनित रोगों के प्रकोप की वजह से भी फूल गिर जाते हैं.

* कई बार वातावरण, जैसे वर्षा, हवा और गरमी की वजह से भी फल के गिरने की समस्या हो सकती है.

* पोषक तत्त्वों की कमी, पानी की कमी और अधिकता भी इस की एक बड़ी वजह हो सकती है. फल ?ाड़ने के नियंत्रण के उपाय

* अनार, अमरूद व नीबू में फल 3 साल बाद ही लेना चाहिए. * फूल और फल आते समय पानी न दें और बूंदबूंद सिंचाई का उपयोग करें.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT