लेखक- डा. सिद्धार्थ साहा, प्रधान वैज्ञानिक

जब भी बहुत ज्यादा गरम नम या गरम शुष्क वातावरण होता है, तब पशु सामान्यतौर पर जीभ बाहर निकाल कर और अधिक से अधिक पसीना निकाल कर अपनी ऊर्जा को खर्च करते हैं, जिस से उन के शरीर का तापमान नियंत्रित रहता है. यह पशुओं के लिए जो एक स्वाभाविक और प्राकृतिक क्रिया है, लेकिन कभीकभी पशुओं के शरीर ऊष्मा बाहर निकालने की क्षमता, पसीना निकालना, जीभ बाहर निकलना जैसी प्राकृतिक क्रियाओं से भी शारीरिक तापमान नियंत्रित नहीं हो पाता, जिसे ऊष्मीय तनाव कहा जाता है.

तापमान, जिस के ऊपर ऊष्मीय तनाव हो सकता है : संकर और विदेशी नस्ल की गायों में : 26० सैंटीग्रेड से ऊपर. देशी नस्ल की गायों में 33० सैंटीग्रेड से ऊपर. भैंसों में 36० सैंटीग्रेड से ऊपर. ऊष्मीय तनाव से पशुपालकों को कई प्रकार से माली नुकसान हो सकता है, जैसे :

ये भी पढ़ें- एक्वापोनिक्स की पद्धति और तकनीक- भाग 2: मीडिया बेड विधि

* दूध उत्पादन में कमी.

* कम प्रजनन दक्षता.

* मंदहीनता.

* गर्भधारण दर में कमी. संवेदनशील पशु देशी नस्ल की गायों की अपेक्षा संकर और विदेशी नस्ल की गाय ऊष्मीय तनाव के प्रति ज्यादा संवेदनशील होती हैं. भैंसों की मोटी व काली चमड़ी होने और गायों की तुलना में कम पसीना ग्रंथि होने के कारण भैंस ऊष्मा का खर्च ठीक प्रकार से नहीं कर पाती, जिस से उन में ऊष्मीय तनाव का ज्यादा बुरा असर होता है. ऊष्मीय तनाव को कम करने के लिए उचित प्रबंधन इस प्रकार है :

ये भी पढ़ें- एक्वापोनिक्स से करें मछली और साग-सब्जियों का उत्पादन- भाग 1

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT