रवि कुमार पटेल, डा. अजित कुमार वर्मा, डा. सुबोध कुमार शर्मा, डा. बीके शर्मा और चेतन कुमार गर्ग

भारत के उत्तरपश्चिमी राज्यों मे झींगापालन से होने वाले मुनाफे को देखते हुए यहां के मत्स्य किसान बहुत हतोत्साहित हैं, इसीलिए वर्तमान में भारत के उत्तरपश्चिमी राज्यों में भूलवणीय खारे पानी में झींगापालन करने वाले और भविष्य में इस को करने के इच्छुक मत्स्य किसानों को झींगापालन की विधि और उत्पादन करने की अवधि के बीच होने वाली समस्याओं से अवगत कराना जरूरी है. साथ ही, उन समस्याओं के समाधान के लिए उपयुक्त सुझाव देना बहुत ही आवश्यक है.

यहां झींगा पालने के लिए मत्स्य किसानों को उचित वैज्ञानिक जानकारी दी जा रही है, ताकि किसान अपनी आय में आशातीत बढ़ोतरी के साथसाथ पर्यावरण का संतुलन भी बनाए रख सकते हैं.

झींगा उत्पादन कैसे करें?

तालाब की तैयारी : झींगापालन के दौरान तालाबों के तलहटी की मिट्टी उत्पादन में अहम भूमिका निभाती है. सब से पहले अवांछनीय प्रजातियों के निराकरण के लिए प्रत्येक फसल के बाद तालाब को सुखा दें. तालाब सूखने के बाद इस की जुताई हल चलवा कर करें, जिस से मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ती है और हानिकारक पदार्थों का औक्सीकरण हो जाता है. इस के बाद तालाब में चूने का प्रयोग करें, जो तालाब मे कई तरह से लाभकारी होता है.

यह अम्लीय मिट्टी व पानी के पीएच मान को बढ़ाता है और परजीवियों को नियंत्रित करता है. चूने के प्रयोग से तालाब में प्रयुक्त गोबर व खाद में उपस्थित पोषक तत्त्व समायोजित रहते हैं और यह घुलनशील कार्बनिक पदार्थों को कम करता है.

जलकृषि के लिए 3 प्रकार के चूने का उपयोग होता है-

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT