राघवेंद्र विक्रम सिंह

कृषि विज्ञान केंद्र, बस्ती

आम की उत्पादकता को बढ़ाने के लिए आवश्यक है कि मंजर में टिकोरा (फल) लगने के बाद बाग का वैज्ञानिक ढंग से प्रबंधन कैसे किया जाए.

मटर के दाने के बराबर

आम के फल होने की

अवस्था में किए जाने वाले

कृषि के काम

* फूल के अच्छी प्रकार से खिल जाने के बाद से ले कर फल के मटर के दाने के बराबर होने की अवस्था के मध्य किसी भी प्रकार का कोई भी कृषि रसायन का प्रयोग नहीं करना चाहिए, अन्यथा फूल के कोमल हिस्से घावग्रस्त हो जाते हैं, जिस से फल बनने की प्रक्रिया बुरी तरह प्रभावित होती है.

* मटर के दाने के बराबर फल हो जाने के बाद इमिडाक्लोप्रिड (17.8 एसएल)

1 मिलीलिटर दवा प्रति 2 लिटर पानी में और हैक्साकोनाजोल 1 मिलीलिटर प्रति लिटर पानी में या डाइनोकैप (46 ईसी) 1 मिलीलिटर दवा प्रति 1 लिटर पानी में घोल कर छिड़कने से मधुवा और चूर्णिल आसिता की उग्रता में कमी आती है.

* प्लेनोफिक्स नाम की दवा को

1 मिलीलिटर प्रति 3 लिटर पानी में घोल कर छिड़काव करने से फल के गिरने में काफी कमी आती है. इस अवस्था में हलकी सिंचाई शुरू कर देनी चाहिए, जिस से बाग की मिट्टी में उचित नमी बनी रहे, लेकिन इस बात का खास ध्यान देना चाहिए कि पेड़ के आसपास पानी इकट्ठा न हो.

* यदि आप का पेड़ 10 वर्ष या उस से ज्यादा का है, तो उस में 500-550 ग्राम डाईअमोनियम फास्फेट, 850 ग्राम यूरिया और 750 ग्राम म्यूरेट औफ पोटाश और 25 किलोग्राम गोबर की अच्छी तरह से सड़ी हुई खाद पौधे के चारों तरफ मुख्य तने से तकरीबन 2 मीटर दूर रिंग बना कर खाद और उर्वरकों का इस्तेमाल करना चाहिए.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT