रैडिशन और हयात जैसे होटल समूहों में अच्छी तनख्वाह पर नौकरी करने के बाद स्नेहांशु कुमार ने जब नौकरी छोङ कर मशरूम की खेती शुरू की तो लोग उन के इस निर्णय पर न सिर्फ हंसते थे, बल्कि उन का मजाक भी उङाते थे.

मातापिता को भी एकबारगी लगा कि बेटे पर इतने पैसे खर्च कर होटल मैनेजमैंट की पढ़ाई के लिए अच्छे कालेज में दाखिला दिलाया, सुविधाओं में पढ़ाया पर यह कैसी सनक सवार हो गई उसे कि वह नौकरी छोङ कर खेती करने लग गया?

Tags:
COMMENT